जब ऋषि कपूर को पीटने के लिए घर पहुंच गए थे संजय दत्त और गुलशन ग्रोवर

0
24
Sanjay Dutt

जब Rishi Kapoor को पीटना चाहते थे Sanjay Dutt: पिछले महीने ही हिंदी सिनेमा ने दो ऐसी हस्तियों को खोया है जिसकी कमी को कोई पूरा नही कर सकता है दो ऐसे सितारे जिन्हें हम एक्टिंग स्कूल कह सकते है। जी हां इरफान खान और ऋषि कपूर दोनों के ही निधन पर बॉलीवुड को गहरा शोक लगा कई सितारों की आंखे नम हो गई थी। इन्हीं में एक थे संजय दत्त जो ऋषि कपूर के निधन पर काफी भावुक हो गए थे। आज इन्हीं दोनों से जुड़ा एक किस्सा  हम आपको आज बताएंगे।

और पढ़े: एक फोन कॉल ने बदल दिया था संजय दत्त और माधुरी दीक्षित का रिश्ता

टीना मुनीम से बेपनाह मोहब्बत करते थे संजय दत्त

संजय (Sanjay Dutt) के अफेयर की किस्से भी जगजाहिर लेकिन हम यहां आपको टीना मुनीम से अफेयर का किस्सा बताएंगे जी हां संजय दत्त टीना मुनीम से बेपनाह मोहब्बत करते थे उनकी मोहब्बत का आलम आप इस बात से लगा सकते हैं की उन्होंने इसके लिए ऋषि कपूर की पिटाई करने का प्लान बनाने लगे थे।

जी हां टीना संजय दत्त (Sanjay Dutt) की बचपन की दोस्त थीं और 1981 में आई एक फिल्म में उनके साथ काम कर चुकी थीं. संजू बाबा को कुछ वजहों से ऐसा शक हुआ कि ऋषि कपूर (जो कि उस वक्त अविवाहित थे) का उनकी गर्लफ्रेंड टीना से अफेयर चल रहा है. यह सुनते ही संजू का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया और वह अपने दोस्त गुलशन ग्रोवर के साथ मिलकर ऋषि कपूर को पीटने का प्लान बनाने लगे।

संजू और गुलशन पूरी तैयारी के साथ ऋषि कपूर के घर पहुंचे. यहां पर उन्हें ऋषि कपूर की मंगेतर नीतू सिंह मिलीं. नीतू ने जब संजय दत्त और गुलशन को समझाया कि ऋषि कपूर का टीना के साथ कोई अफेयर नहीं है तब जाकर संजय दत्त (Sanjay Dutt) को बात समझ में आई और उन्होंने ऋषि कपूर को पीटने का प्लान रद्द कर दिया।

और पढ़े: रणवीर सिंह से लेकर सनी लियोन तक ये 10 बॉलीवुड सेलेब्स कर चुके है वन नाइट स्टैंड

ऋषि कपूर ने अपनी किताब में भी किया इस वाकये का जिक्र

इस बात का खुलासा गुलशन ग्रोवर ने एक अखबार से बातचीत में किया था उन्होंने बताया था की संजय (Sanjay Dutt) और मैं भाई की तरह थे. एक दिन उसने मुझे बताया- “हमें चिंटू (ऋषि कपूर का निकनेम) को पीटने के लिए उसके घर चलना होगा. हम उनके घर गए भी थे लेकिन उनकी मंगेतर नीतूजी हमें यह समझा पाने में कामयाब रहीं कि ऋषि कपूर का कोई अफेयर नहीं था और हम चले आए.” इस वाकये का जिक्र ऋषि कपूर ने अपनी आत्मकथा खुल्लम खुल्ला में भी किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here