Saturday, September 24, 2022

वेब रिव्यू : देश की आन बान शान के लिए लड़ती ‘शूरवीर’

डिज्नी पल्स हॉट स्टार पर इस शुक्रवार रिलीज हुई ‘शूरवीर’ भारतीय सेना के तीनों अंगों के दस बेहतरीन जवानों (हॉक्स) की कहानी क्या कहती है और क्या यह देखने लायक बन पड़ी है या देशभक्ति जगाने मे सफल हो पाई है जानिए बॉलीवुड लोचा के इस वेब सीरीज रिव्यू में। तो चलिए शुरू करते हैं –

हिंदुस्तान के दमन में आतंकी घटन घटी है और हिंदुस्तान के रक्षकों ने ठान ली इन आतंकियों का सफ़ाया करने की। इसी के साथ तैयार हुई दस हॉक्स की दमदार टीम। प्लान तैयार हुआ और इन्हें दी गई उस प्लान को पूरा करने की ट्रेनिंग। देश के अलग-अलग कोने से देश की अलग-अलग आर्मी से आये जवानों ने कड़ी मेहनत की। इनमें कौन सफल रहा कौन आगे निकला? किन-किन मुश्किलों का सामना किया? करोडों की कीमत के जेट्स उड़ाते आसमान की असीम ऊंचाइयों में कलाबाजियां दिखाते ये जेट्स किसी का भी मन मोह लें। लेकिन जो असल रोमांच देश के गणतंत्र दिवस की परेड को देखते हुए होता है उसके मुकाबले यह कुछ कम रोमांच जरूर परोसती है लेकिन इसे देखते हुए उन बहादुर जाबांजों पर जरूर गर्व होता है।

Shoorveer Web Series Download
Shoorveer Web Series Download

क्या कहती है शूरवीर की कहानी

कहानी के लिहाज से शूरवीर सीरीज नई व ताजी जरूर नज़र आती है। लेकिन जो ‘उरी’, ‘राजी’ जैसी फिल्में जोश जज्बा जगाती हैं, रोंगटे खड़े करने के अलावा दिल में हौल उठाती हैं उसके मुकाबले जरूर कम है। देश के खातिर घर तक को त्याग देने वाले, घर वालों को छोड़ देश के लिए जान दांव पर लगाने वाले इन शूरवीर को लाया गया है हिंदुस्तान की तीन बड़ी सेनाओ से। जहाँ इन काबिल ऑफिसर को ढूंढकर एक टीम जिस तरह तैयार की गई है वह उम्दा है। भरपूर एक्शन  इमोशन और देशभक्ति से सजी इस सीरीज को हुबहु रखने की कोशिश की गई है जिसमें घटती घटनाओं को देखकर उनके असली होने का अहसास भी होता है। देश पर मंडराए संकट को ये जाबांज अपनी उसी जाबांजी से सुलझाने में कामयाब भी होते हैं।

कैसी बनी है सीरीज

सीरीज का स्क्रीनप्ले, सिनेमेटोग्राफी सबसे उम्दा है। हालांकि वी एफ एक्स के मामले में सीरीज उतनी ही कम तर नज़र आती है कई जगहों पर देखते हुए लगता है जैसे एनिमेशन का इस्तेमाल किया है। लेकिन जब आपएक बार गम्भीरता से देखने बैठें तो यह लाजमी है कि आप इसे लगातार देखते जाएं। सीरीज कुछ फिल्मों और सीरीज की भी याद दिलाती है। जिसके लिए डायरेक्टर और इसके मेकर्स की तारीफ भी की जानी चाहिए। हालांकि शुरुआती 2 एपिसोड तक सीरीज धीमी-धीमी लगती है लेकिन इसके बाद जैसे-जैसे रफ्तार बढ़ जाती है कुछ-कुछ रोमांच भी बढ़ता है। बैकग्राउंड म्युज़िक सीरीज की कहानी के मुताबिक है। जो कहीं न कहीं आपके की अंदर छुपी हुई देशभक्ति को भी बाहर ले आए सम्भवत:।

Shoorveer Web Series Download
Shoorveer Web Series Download

कैसी रही एक्टिंग किरदारों की

रेजिना केसिंड्रा का किरदार लुभाता है। मकरंद देशपांडे, मनीष चौधरी, अरमान रलहान , अभिषेक साहा और अंजलि बरोट आदि सबसे उम्दा रहे और जिस तरह से ये किरदार मानसिक दबाव आपके भीतर भी बनाते जाते हैं उस हिसाब से उम्दा जरूर है बावजूद यह उतना आपको डुबाती नहीं। कारण सीरीज को स्थापित होने में शुरुआती स्क्रीन प्ले की कमजोरी और कुछ किरदारों का पूरी तरह न जम पाना भी इसे कमजोर करता है।

देखनी चाहिए या नहीं

यह सीरीज स्पेशल ओप्स, फैमिली मैन की बराबरी तो नहीं कर पाती लेकिन बाहरी बुरी शक्तियों व भारत को बर्बाद करने की कोशिश जो हमेशा से रही है उनसे हमें बचाने के लिए हमारी आर्मी के जवान क्या कुछ कर गुजरते हैं वह देखना लुभाता है। कुछ एक कई सारी कमियों को छोड़ सीरीज देखी जा सकती है इस सीरीज के क्रियेटर व डायरेक्टर, एडिटर मिलकर थोड़ा और काम करते तो यह और अच्छी होती। जिस तरह एक मिशन के लिए तैयार की गई है यह सीरीज और जिस तरह यह बताती है कि हमारी तीनों सेना कैसे काम करती हैं? कैसे ये सेनाएं तैयार होती हैं? कैसे इनकी ट्रेनिंग होती है? और ये सेनाएं कैसे मिलकर आतंकवाद को रोकती हैं उन सबसे ही गुजरती नज़र आती है।

Shoorveer Web Series Download

कुलमिलाकर ठीकठाक बनी इस सीरीज की कहानी अगर पूरी तरह वो देशभक्ति, गर्मजोशी और उत्साह नहीं भर पाती है जितना हमें किसी देशभक्ति से भरी फिल्मों देखने पर भरना चाहिए तो उसके लिए इसे कायदे से न उठा पाने वाले लोग जिम्मेदार हैं। सीरीज फिर भले ही टेक्निकल टर्म को अच्छे से बताती, समझाती हो कि कैसे आर्मी काम करती है लेकिन आप उसे दिखाते समय वो इमोशन पर्दे पर उतार पाने में सफल नहीं होते पूरी तरह तो यह तो नाइंसाफी हुई निर्देशक ‘कनिष्क वर्मा’ को अभी पर्दे की बारीकियों को और गहराई से सीखना समझना होगा।

सीरीज की लीड कास्ट

मकरंद देशपांडे, मनीष चौधरी, शिव्या पठानिया, रेजिना कैसेंड्रा, अरमान रल्हन, आदिल खान, अभिषेक साहा, अंजलि बरोट, कुलदीप सरीन, आरिफ जकारिया, फैसल रशीद, साहिल मेहता आदि

अपनी रेटिंग – 2.5 स्टार

Tejas Poonia
Tejas Poonia
लेखक - तेजस पूनियां स्वतंत्र लेखक एवं फ़िल्म समीक्षक हैं। साहित्य, सिनेमा, समाज पर 200 से अधिक लेख, समीक्षाएं प्रतिष्ठित पत्रिकाओं, पोर्टल आदि पर प्रकाशित हो चुके हैं।

Related Articles

Stay Connected

21,986FansLike
3,495FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles