Deprecated: The each() function is deprecated. This message will be suppressed on further calls in /home/u958272283/domains/bollywoodlocha.com/public_html/wp-content/plugins/js_composer/include/classes/core/class-vc-mapper.php on line 111
INTERVIEW: बहू हमारी रजनी कांत की यूएसपी है इसका कांसेप्ट - वाहबिज दोराबजी

INTERVIEW: बहू हमारी रजनी कांत की यूएसपी है इसका कांसेप्ट – वाहबिज दोराबजी

Advertisement

0

वाहबिज दोराबजी एक भारतीय माॅडल और टेलिविजन अभिनेत्री हैं। वह फिलहाल लाइफ ओके के शो ‘बहू हमारी रजनीकांत’ में मैगी का किरदार निभा रही हैं। पेश है उनसे हुई बातचीत के कुछ अंश

लाइफ ओके के लोकप्रिय षो ‘बहू हमारी रजनीकांत’ का हिस्सा बनने को लेकर कितनी उत्साहित हैं ?

Advertisement

मैं खुशकिस्मत महसूस करती हूं। इसके साथ सबसे अच्छी बात है कि पटकथा ही इसकी हीरो है। कहानी बेहतरीन हो तो समझो आधा काम हो गया। सोनाली जाफर और आमिर जाफर बेहद प्रतिभाशाली और प्यारे लोग हैं। शो में ऐसे मस्तमौला और अच्छे कास्ट और क्रू के सदस्यों की वजह से शूट बेहद खुशनुमा अनुभव होता है। हम एक परिवार की तरह मस्ती करते हैं। सबसे अच्छी बात है कि दर्षक षो को पसंद कर रहे हैं। तो यह किसी कलाकार के लिए सबसे अच्छा मंच है।

वाहबिज दोराबजी
वाहबिज दोराबजी

इस किरदार के लिए आप पहली पसंद नहीं थीं। क्या इससे परेशानी होती है ?

हा हा, तो आपको पता है। मैं कहूंगी ये फिर से बहुत अच्छा हुआ। मुझे बिल्कुल भी परेशानी नहीं। इसके पहले चुनी गई अभिनेत्री दिव्या भटनागर मेरी अच्छी दोस्त हैं और हम इस बात पर हंसे भी थे। मुझे रातोंरात यह किरदार मिला इसे मैं अपनी तकदीर मानती हूं और मुझे यह मिलना ही था। शो के लिए दूसरे कलाकारों को फाइनल करने में काफी वक्त लगा लेकिन मुझे इंतजार नहीं करना पड़ा। मैं एक रात फाइनल हुई और अगले दिन से मेरी शूटिंग शुरू हो गई (हंसती हैं)। मैं अपने दिल की सुनती हूं और हमेशा इससे खुशी मिलती है।

शो का हिस्सा बनने के अपने खुशनुमा सफर के बारे में बताइए?

मैं अपने काम को लेकर हमेशा से बेहद चूजी रही हूं। अगर आप मेरा करियर ग्राफ देखें तो पाएंगे कि मैंने हमेशा चुनौतीपूर्ण किरदार किए हैं चाहे वह प्यार की एक कहानी का हो या सरस्वतीचंद्र को हो। मैं अपने दिल की आवाज सुनती हूं और यह हमेशा काम करता है। मैगी के किरदार के लिए भी मैं बिल्कुल वैसी हूं जैसी चाहिए थी। शायद मेरा पंजाबी होना मेरे काम आया।

शो ने बड़े पैमाने पर दर्शकों के दिल जीते हैं। आपके हिसाब से इसकी यूएसपी क्या है ?

मैंने जैसा कहा शो की यूएसपी इसका कांसेप्ट है। हाल में किसी ने टीवी पर साय फाय करने की कोशिश नहीं की थी। और सोनाली और आमिर का दिया हुआ देसी तड़का इसका दिलचस्प पहलू है। रोबोट बहू का ट्रैक तो अनूठा है ही, पंजाबी और बंगाली नोकझोंक और सास बहू के अलग करतब भी दर्शकों को बेहद पसंद आ रहे हैं। लेखन कमाल का है और सभी किरदार बेहद खूबसूरती से गढ़े गए हैं। हर किसी के लिए शो में एक अच्छा ट्रैक है। कौन ऐसा शो देखना नहीं चाहेगा जो उसे हंसाए। दूसरी बड़ी बात कि इसमें निहायत खूबसूरत चेहरे हैं। बहू हमारी रजनी कांत दिन भर काम कर के थके होने के बाद तनाव से मुक्ति देता है।

Advertisement

वाहबिज दोराबजी
वाहबिज दोराबजी

कलाकारों की भीड़ में अपने खो जाने का डर नहीं लगा ?

मैं खुद को लेकर खासी आत्मविश्वासी हूं और मेरा काम खुद मेरे लिए बोलेगा। जब मैंने प्यार की.. के साथ शुरुआत की थी तो वहां भी बहुत कलाकार थे। मैं रातोंरात रजनी कांत में लाई गई इसलिए मुझे ये सब सोचने का मौका नहीं मिला। मेरे पुराने दोस्त करण और कुछ और दोस्त भी शो में हैं इसलिए भी मैंने इसके लिए सहमति दी थी। ऐसी चीजें मुझे बिल्कुल परेशान नहीं करतीं। बल्कि बड़ी कास्ट के साथ काम करने में तनाव कम होता है क्योंकि सारा तनाव किसी एक पर नहीं रह जाता। कई ट्रैक चलते रहने से कलाकार के ऊपर से काम का दबाव कम हो जाता है। मैं परिवार पसंद इंसान हूं और अपने परिवार को भी बराबर वक्त देना चाहती थी। मेरा आत्मविश्वास बढ़ जाने पर मुझे अपने हुनर के बारे में पता है और शुक्र है सबने इसकी तारीफ की।

सभी कलाकारों के साथ कैसे संबंध हैं ?

सभी कलाकारों की आॅफ-स्क्रीन केमिस्ट्री लाजवाब है। हम हमारी मस्तियां इंस्टाग्राम और ट्विटर पर देख सकते हैं। चूंकि पर्दे के आगे और पीछे हम सबमें खूब बनती है तो इसका असर हमारे काम पर सकारात्मक रूप से पड़ता है। हम एक दूसरे से इतना जुड़े हुए हैं कि जब शूटिंग नहीं कर रहे होते हैं तो भी एक दूसरे से मिलते है।। काम करने के लिए बेहद सकारात्मक माहौल है जो बहुत अच्छा है। ऐसे प्यारे लोगों की यूनिट मिलना बेहद किस्मत की बात होती है।

बाकी लड़कियों के साथ आपकी केमिस्ट्री बहुत अच्छी है, इसके बारे में बताइए?

हां, जहां दूसरे कलाकार अपने किरदारों के लिए वर्कशॉप्स वगैरह करते हैं मुझे तैयारी की जरूरत नहीं पड़ी। मैं तन्वी ठक्कर और बाकी कलाकारों के साथ काम करके बेहद खुश हूं। तन्वी और मेरे नफरत वाले ट्रैक को दर्शकों ने बहुत पसंद किया है। हम एक दूसरे को पांच साल से जानते हैं इसलिए हमारे लिए साथ काम करना आसान होता है। सेट पर हर लड़की बेहद प्यारी है चाहे वह रिधिमा हो, पल्लवी हो, स्वीटी या फिर नेहा कौल। ये सब बेहद सहज और प्रतिभाषाली लड़कियां हैं।

वाहबिज दोराबजी
वाहबिज दोराबजी

भविष्य की क्या योजनाएं हैं ?

मैं कभी भी महीनों में 30 दिन काम नहीं करना चाहती। मैं जिंदगी को लेकर एक संतुलित नजरिया चाहती हूं और मैं परिवार पसंद करने वाली लड़की हूं। मैं अपने परिवार के बिना नहीं रह सकती। मैं हमेशा अलग अलग तरह के किरदार निभाना चाहती हूं और खास कर के पैरलल भूमिकाएं मेरी पसंद हैं। मैंने कई कैमियो भूमिकाएं भी की हैं क्योंकि मैं उन्हें एक चुनौती की तरह लेती हूं। पहली बार मैंने काॅमेडी में हाथ आजमाया है। असल जिंदगी में मैं बेहद मजाकिया और मस्तमौला हूं। जब यह किरदार मुझे मिला तो मेरे दोस्तों ने कहा कि तुम बस अपने आप को निभाओ। मैं पूरी तरह से निर्देशक की कलाकार हूं। मैं अपने अनुभवों से सीखना भी चाहती हूं।

Advertisement

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.