Deprecated: The each() function is deprecated. This message will be suppressed on further calls in /home/u958272283/domains/bollywoodlocha.com/public_html/wp-content/plugins/js_composer/include/classes/core/class-vc-mapper.php on line 111
INTERVIEW!! मेरी एकमात्र रणनीति यह सुनिश्चित करना है कि द वाॅयस इंडिया में मैं हमेशा अपनी टीम के साथ रहूं - सुनिधि चैहान - BollywoodLocha

INTERVIEW!! मेरी एकमात्र रणनीति यह सुनिश्चित करना है कि द वाॅयस इंडिया में मैं हमेशा अपनी टीम के साथ रहूं – सुनिधि चैहान

Advertisement

0

द वाॅयस इंडिया का हिस्सा बनने का फैसला क्यों किया?

‘द वाॅयस इंडिया‘ अब तक की सबसे अनूठी और नवोन्मेशी परिकल्पना है। एक गायक के तौर पर, मैं वास्तव में इस बात की सराहना करती हूं कि प्रतिभागी की आवाज को सबसे ज्यादा महत्व देना चाहिये और यही बात वास्तव में मायने रखती है। जब मुझे द वाॅयस का आॅफर मिला तो मैंने कोच के रूप में बोर्ड में शामिल होने के लिए फौरन हां कह दिया। और, मैं हमेशा से द वाॅयस के इंटरनेशनल फाॅर्मेट की बहुत बड़ी प्रशंसक रही हूं।

Advertisement

Sunidhi-2

शो की मुख्य बात क्या है, यह दूसरे सिंगिंग रियलटी शो से किस तरह अलग है?

इस शो का फाॅर्मेट असाधारण है; भारतीय टेलीविजन पर इस तरह का फाॅर्मेट कभी देखने को नहीं मिला। पहली बार जजेस प्रतिभागियों को देखे बगैर सिर्फ उनकी आवाज सुनकर अपनी खुद की टीम बनायेंगे। और काम यहीं खत्म नहीं होता। शान, मीका, हिमेश और मैं अपनी टीम के कोच और मेंटर बनकर उनकी प्रतिभा को और निखारेंगे। तो, जैसा कि नाम से पता चलता है कि शो में सिर्फ प्रतिभागी की आवाज पर ही फोकस किया गया है।

इस शो में आपकी क्या भूमिका होगी?

इस शो में मैंने एक कोच और जज की भूमिका निभाई है। मुझे न सिर्फ जज बनने का सौभाग्य मिला, बल्कि प्रतिभागियों से अधिक निजी स्तर पर बातचीत करने का भी मौका मिला। एक कोच के रूप में, मैं इन महत्वाकांक्षी गायकों को परामर्श दूंगी; उन्हें निखारूंगी और उनकी आवाज के असली सामर्थ्य को सामने लाऊंगी। मैं सभी को गायन अथवा संगीत को एक अलग तरीके से अपनाने की कोशिश करने में मदद करूंगी, खासतौर से मैं उन्हें जैसा देखना चाहती हूं, उन्हें उसी तरह बनाऊंगी।

Sunidhi-Chauhan-130813

‘द वाॅयस‘ की परिकल्पना के बारे में आपकी क्या राय है?

यह वास्तव में एक क्रांतिकारी परिकल्पना है। ब्लाइंड आॅडिशंस इस शो का एक प्रमुख घटक है। इसमें, चार कोचेज प्रतिभागियों की तरफ अपनी पीठ कर उनकी आवाज को सुनेंगे और वे उन्हें देख नहीं सकते। यदि किसी कोच को प्रतिभागी की आवाज पसंद आती है, तो वह अपनी कुर्सी घुमाने के लिए बजर दबायेगा। इससे पता चलेगा कि वह जज प्रतिभागी को अपनी टीम में लेना चाहता है। मेरा मानना है कि सिर्फ आवाज के दम पर जज करना एक बेहतरीन आइडिया है। इसमें एक चुनौती है क्योंकि यह पता लगाना कठिन है कि कोई गायक किस तरह से शो के दौरान परफाॅर्म करेगा। इस शो में सिर्फ प्रतिभागी की आवाज पर फोकस किया गया है न कि इस पर कि वह दिखने में कैसा है।

Untitled-13 copy-98683

कोच टीम सुनिधि को लेकर आपकी रणनीति क्या होगी?

चूंकि, मैं अपनी जिंदगी में खुद रियलटी शो की प्रतिभागी रह चुकी हूं और काफी समय से इस उद्योग में हूं, ऐसे में मैंने अपने अनुभव से जुटाई गई जानकारी को साझा करने की योजना बनाई है। मेरी अकेली रणनीति यह सुनिश्चित करना होगी कि मैं हमेशा गायकों की मदद कर सकूं।

Advertisement

क्या रियलटी शोज वाकई में युवाओं के लिए लाभदायक होते हैं?

कोई भी आकांक्षी कलाकार अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने के लिए मंच का उपयोग कर सकता है, क्योंकि सही ब्रेक मिलना अत्यधिक महत्वपूर्ण है। इसे ध्यान में रखकर, रियलटी शोज निश्चित रूप से कुछ हद तक लाभदायक होते हैं, क्योंकि इन महत्वाकांक्षी कलाकारों को इतना बड़ा मंच कहीं और नहीं मिलता।

ss-1304-4

इस समय रियाज़ के लिए कितना समय दे पाती हैं?

मैं अभी भी मेरे रियाज़ के लिए उतना ही समर्पित हूं, जितना गायक के रूप में शुरूआत करने के वक्त थी। इसलिए मैं पहले की ही तरह अभी भी रियाज़ के लिए पूरा समय निकालती हूं। मेरा मानना है कि अब मैं अभ्यास को लेकर बहुत सजग हूं और अब पहले से ज्यादा समय देती हूं।

क्या आपको संगीत का स्वर्णिम युग (1960-70) पसंद है अथवा आज का जमाना?

मुझे हर दौर का संगीत पसंद है। स्वर्णिम युग वास्तव में संगीत का महान युग था, लेकिन कई ऐसे समसामयिक कंपोजर हैं, जो वास्तव में बहुत बेमिसाल हैं। आज बनाया जा रहा संगीत भी मेरे लिए बहुत आकर्षक है।

Sunidhi_Chauhan_judge_reality_show_indian_idol8

उद्योग में काफी नये कलाकार आ रहे हैं। क्या इससे असुरक्षित महसूस करती हैं?

नहीं, बिल्कुल नहीं। एक सीनियर होने के नाते, मुझे यह देखकर गर्व होता है कि कई युवा सिंगर्स को मौका मिल रहा है। वे सभी उम्दा गायक हैं और उन्हें सुनना अच्छा लगता है। मेरे लिए संगीत कोई प्रतियोगिता नहीं है। मैं सिर्फ अपने काम पर ध्यान देती हूं।

संगीत बिरादरी में आपके कुछ समकक्षों को फिल्मों में अभिनय करने में रुचि है तो क्या आपको भी फिल्मों में अभिनय करना पसंद है?

मैंने हाल में अपना 21 किलो वजन कम किया है, यह इसलिए नहीं कि मैं फिल्म में काम करना चाहती हूं। मैंने अंदर से अच्छा महसूस करने के लिए यह किया है। लेकिन यदि मुझे आॅफर्स मिले तो निश्चित रूप से उन्हें स्वीकार करूंगी।

 

Advertisement

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.