Deprecated: The each() function is deprecated. This message will be suppressed on further calls in /home/u958272283/domains/bollywoodlocha.com/public_html/wp-content/plugins/js_composer/include/classes/core/class-vc-mapper.php on line 111
पीएम नरेंद्र मोदी मूवी रिव्यू - सच दिखाने से ज्यादा मोदी को संत के रूप में पेश किया गया - BollywoodLocha

पीएम नरेंद्र मोदी मूवी रिव्यू – सच दिखाने से ज्यादा मोदी को संत के रूप में पेश किया गया

Advertisement

0

किसी भी बायोपिक फिल्म में किसी महान शख्सियत के जीवन के हर पहलू से रूबरू कराया जाता है लेकिन इस फिल्म में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की सिर्फ तारीफ की गई है.

इस फिल्म को देखने के बाद ऐसा महसूस होता है कि डायरेक्टर ओमंग कुमार ने ये फिल्म बस दो घंटे तक मोदी की तारीफ के लिए बनाई है। इस फिल्म में मोदी जी को एक ऐसी शख्शियत बताया गया है, जो कि नेकी में भगवान से कम नहीं है।

Advertisement

एक बीयोपिक तभी दिलचस्प हो सकती है, जब आप एक इंसान के जीवन को ईमानदारी से दिखाएं। आप भले ही उनकी अच्छाई पर ज्यादा ध्यान दें, लेकिन थोड़ी-बहुत बुराई भी दिखाएं। ताकि दर्शक आपकी कहानी पर विश्वास कर सकें।

इस फिल्म के एक सीन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को खुद आर्मी के साथ कश्मीर में आतंकवादियों से लड़ते हुए और कश्मीर की बर्फीली चोटियों पर भारत का झंडा फहराते हुए दिखाया गया है, इस सीन को देखने के बाद आप पूरी तरह से दंग रह जाएंगे और आप समझ जाएंगे कि इस फिल्म की कहानी मोदी जी के जीवन से प्रेरित जरूर है लेकिन इससे ज्यादा यह फिल्म काल्पनिक है.

Advertisement

गरीब परिवार में पल-बढ़कर प्रधानमंत्री बनने तक तक की मोदीजी की प्रेरणादायक कहानी को अगर ईमानदारी से दिखाया जाता तो यह फिल्म दिलचस्प हो सकती थी लेकिन फिल्म के डायरेक्टर ओमंग कुमार ने अंध भक्ति की राह चुनी।

इस फिल्म को देखने के बाद आप भली-भांति समझ जाएंगे कि आखिर विरोधी दलों के नेताओं ने इस फिल्म को चुनाव से पहले रिलीज होने से क्यों रोका

आपको यह न्यूज़ कैसी लगी ? हमें कमेंट करके जरुर बताएं, और बॉलीवुड की ताजा खबरों के लिए बॉलीवुड लोचा को फॉलो करना ना भूलें

Advertisement

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.