बॉलीवुड फिल्मों में गाने और डांस की संस्कृति मिट रही है – फराह खान

0
215

कोरियोग्राफर से निर्देशक बनीं फराह खान इन दिनों अपने नये शो ‘लिप सिंग बैटल’ शो के प्रमोशन में व्यस्त हैं। यह शो सेलिब्रिटीज के बीच एक मनोरंजक मुकाबला है जो लिप-सिंकिंग करते और सुपरहिट गानों पर डांस करते हुये नजर आयेंगी। टेलीविजन स्क्रीन पर इस शो का प्रसारण आगामी वीकेंड से शुरू होने जा रहा है। फराह खान के साथ एक इंटरव्यू में, उन्‍होंने कई बातों का खुलासा किया।

इस शो के बारे में हमें कुछ बतायें ?

यह शो एक सफलतम अंतरराष्ट्रीय शो- लिप सिंक बैटल का भारतीय रूपांतरण है। इसमें कई नामचीन सेलिब्रिटीज एक साथ नज़र आयेंगे। दर्शक इस शो में सिर्फ बॉलीवुड के सुपरस्टार ही नहीं बल्कि टेलीविजन के लोकप्रिय सितारों सहित खेल की दुनिया की दिग्गज हस्तियों व अन्य क्षेत्रों के मशहूर लोगों को भी देखेंगे। इस शो के हर एपिसोड में दो सेलिब्रिटी आमने-सामने होंगे। इन्हें दर्शकों का दिल जीतने की प्रतियोगिता में एक-दूसरे के खिलाफ खड़ा किया गया है। वे अपने पागलपन और सुपरहिट गानों पर लिप सिंकिंग के अपने हुनर के दम पर दर्शकों का दिल जीतेंगे।

इस शो के प्रति किस चीज ने आकर्षित किया?

‘‘लिप सिंग बैटल’ के बारे में जिस चीज ने मुझे आकर्षित किया है, वो है इसका मस्ती भरा कॉन्सेप्ट। दो सितारों का एक-दूसरे से बॉलीवुड डांस ट्रैक्स पर भिड़ने का विचार बहुत अद्भुत है। उनके हुनर को तीन स्तरों पर परखा जायेगा और जो सबसे ज्यादा मनोरंजन करेगा, वही जीतेगा। अपनी फिल्मों के जरिये मैंने हमेशा हास्य, खुशियों और सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण, मनोरंजन को परोसा है। मैं इस शो को बड़ी संख्या में दर्शकों तक पहुंचने वाले मंच के रूप में देखती हूं, जो अपने पसंदीदा सितारों को राष्ट्रीय टेलीविजन पर इस बैटल को जीतने की हर संभव कोशिश करते हुए देख कर दंग रह जायेंगे। हां, मैं शो बनाने के कई पहुलओं पर नजर रख रही हूं और इस दौरान मैं इसका भरपूर लुत्फ उठा रही हूं।‘‘

स्‍टेज पर मुकाबले के लिए लाई जाने वाली जोड़ियों में क्‍या कोई पैटर्न देखने को मिलेगा?

नहीं, लिप सिंग बैटल पर मुकाबले के लिए मेरे द्वारा आमंत्रित जोड़ियों में कोई पैटर्न नहीं है। बल्कि, वे सेलीब्रिटीज होंगे जिन्‍हें आपने इससे पहले शायद ही कभी साथ देखा होगा। यहां सेलीब्रिटी फिल्‍म या शो के प्रमोशन के लिए नहीं आ रहे हैं बल्कि वे यहां शानदार समय बिताने के लिए हैं।

सेलीब्रिटीज के मुकाबले के लिये आप गानों का चयन किस तरह करती हैं?

गानों का चुनाव सेलीब्रिटीज खुद करते हैं। वे आमतौर पर अपने पसंदीदा गानों या ऐसे गानों को चुनते हैं, जिन पर वे हमेशा से ही परफॉर्म करना चाहते थे। इस शो का कॉन्सेप्ट ऐसा है, जिसमें उनके पसंदीदा गानों पर परफॉर्मेंस के दौरान उनकी असली पागलपंती नजर आयेगी। वे दूसरों की नकल करेंगे और अपने पसंदीदा गानों को और बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। उदाहरण के लिये, फरहान की असली पागलपंती उस समय नजर आई, जब कर्ज फिल्म के ऋषि कपूर के ‘ओम शांति ओम‘ गाने पर उन्होंने परफॉर्म किया। वह हमेशा से ही मोंटी का किरदार निभाना चाहते थे।

आपने अभी तक किन रोमांचक जोड़ियों के साथ शूटिंग की है?

हमने बॉलीवुड के कुछ सबसे बड़े एन्टरटेनर्स जैसे कि करण जौहर, परिणीति चोपड़ा, फरहान अख्तर, अर्जुन कपूर के साथ शूटिंग की है। सिर्फ ऐक्टर्स या डायरेक्टर्स ही नहीं, बल्कि सिंगर्स भी इस शो में शामिल होंगे, जैसे कि शान और विशाल के बीच मुकाबला देखने को मिलेगा। हमने टेलीविजन की मशहूर जोड़ी नकुल मेहता और सुरभी चांदना को भी लिया है और इसमें ये अपने असली मनोरंजन को दिखायेंगे।

शो में हम किन रोमांचक जोड़ियों को देख सकते हैं?

मुझे इसमें कई रोमांचक जोड़ियों को देखना अच्छा लगेगा। लेकिन इनमें से कुछ जोड़ियां होंगी- रणवीर सिंह के साथ सानिया मिर्जा अथवा शिल्पा शेट्टी या रवीना टंडन या जैकलीन फर्नांडीज और शाहिद कपूर के साथ वरूण धवन।

वर्तमान में बॉलीवुड फिल्मों में डांस का परिदृश्य क्या है?

मुझे लगता है कि बॉलीवुड फिल्मों में गाने और डांस की संस्कृति मिट रही है। गाने अब बैकग्राउंड मे बजते हैं। इसके फायदों और नुकसान का आंकलन करना मुश्किल है। लेकिन मैं निश्चित रूप से इस बदलाव को देख सकती हूं।

आपके हिसाब से किसी फिल्म में गाने और डांस का कम होना अच्छा है या बुरा?

इस बारे में लोगों की पसंद मौजूदा दौर में बदल रही है। लेकिन, यदि इंडस्ट्री की बात की जाये, तो हमें हमारी फिल्मों में गाने या डांस के कारण जाना जाता है। इसलिये लोगों की बदलती पसंद ने फिल्मों को बुरी तरह से प्रभावित किया है। हमारे गाने और डांस ही है, जो हमें हॉलीवुड से आगे रहने में मदद करते रहे हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं है। इसलिये मैंने कोरियोग्राफ करना बंद कर दिया है। यदि कुछ नया किया जाये, तो मुझे अच्छा लगेगा, वरना मैं इन गानों को देखकर ऊब जाउंगी।

पुराने गानों के रिक्रिएशन को लेकर आप क्या सोचती हैं?

सच कहूं, तो मुझे रिवैम्प्ड वर्जन्स पसंद नहीं है। कुछ गानों जैसे कि ‘हम्मा हम्मा‘ या ‘तम्मा तम्मा‘ अथवा ‘ऊंची है बिल्डिंग‘ के रिक्रिएटेड वर्जन्स मुझे आकर्षित नहीं करते हैं। यदि वे ऑरिजनल गानों से बेहतर होते, तो मैं जरूरी तारीफ करती। साथ ही हर गाने में रैप है। मुझे अभी भी गानों के ऑरिजनल वर्जन्स पसंद है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here