INTERVIEW!! द वाॅयस इंडिया मेरे लिये सपने के सच होने जैसा है – शान

0
250

रियलिटी म्यूजिक शो का कोच बनकर कैसा महसूस हो रहा है?

एक कोच के रूप में निश्चित रूप से काफी बड़ी जिम्मेदारी होती है, लेकिन इसके साथ ही जब आप अपने काम को जानते हैं, तो यह आसान हो जाता है। हालांकि, एक कोच के नाते, मैं गाने चुनने, स्केल्स मापने, यह सोचने कि इसमें एक नया मोड़ कैसे से दे सकते हैं, हम परफाॅर्मेंस को किस तरह सुधार सकते हैं और प्रतिभागियों द्वारा आजमाये जाने वाले वैरिएशंस पर फैसला करने में व्यस्त रहूंगा। मुझे कोच होने का थोड़ा अनुभव है और मैं उसे आजमाने जा रहा हूं, ताकि इस किरदार को अधिक बेहतर और बड़ा बना सकूं। इसमें काफी समय और ऊर्जा की जरूरत होती है और मैं प्रतिभागियों के लिये मौजूद रहने में सक्षम बनना चाहता हूूं।

13sep_ShaanBdayFeature

आपने ‘द वाॅयस इंडिया‘ से जुड़ने का फैसला क्यों किया?
द वाॅयस दुनिया भर में बेहद लोकप्रिय फाॅर्मेट है। किसी भी सिंगर म्यूजिशियन के लिये यह एक पसंदीदा शो है। यदि आप टेलीविजन पर और म्यूजिक शो में आना चाहते हैं, तो यह द वाॅयस इंडिया ही होगा।

‘द वाॅयस इंडिया‘ अन्य रियलिटी म्यूजिक शो से किस तरह अलग है?

प्रत्येक राउंड रोमांचक- बेहद अनूठा और खोजपरक है। ब्लाइंड आॅडिशंस भी एक अद्भुत अवधारणा है, क्योंकि यहां पर आप सिर्फ अपने कानों और अपने सहज ज्ञान पर भरोसा करते हैं। हमारे द्वारा टीम बनाने के बाद भी आपको यह सुनिश्चित करने की जरूरत होती है कि आपने जो भी सुना है, वह दोहराया नहीं जा रहा है और विविध प्रतिभा सुनने को मिल रही है। शो जैसे-जैसे आगे बढ़ेगा, यह अधिक दिलचस्प होता जायेगा। लेकिन, निःसंदेह रूप से आपको लाॅजिक के साथ ही अपनी गायकी के अनुभव का भी उपयोग करने की जरूरत होती है।

dilip-kumars-autobiography-substance-shadow-launch

अपनी टीम में आपको किस प्रकार की प्रतिभा की तलाश है?

मैं ऐसी प्रतिभा की तलाश कर रहा हूं, जोकि आॅल-राउंडर्स हों….। इसका मतलब यह है कि मैं ऐसे प्रतिभागियों को तवज्जों दूंगा, जो कि स्पेशियलिस्ट या एक पहलू का नहीं होगा। मुझे ऐसे प्रतिभागियों की तलाश हैं, जो हर शैली का गाना गाने में सहज हों और उसे अलग बना सकते हैं।

क्या आपने अतंरराष्ट्रीय संस्करणों को देखा है? आपके पसंदीदा कोच कौन रहे हैं?

मैं कभी भी पूरा सेशन नहीं देखा है। लेकिन मैं जब भी ‘द वाॅयस‘ का एपिसोड देखने के लिये बैठा, में प्रभावित हुआ और मुझे बहुत मजा आया। मैंने शकीरा के कई एपिसोड्स देखे हैं और मुझे लगता है कि वह अद्भुत थी, क्योंकि उसके और उसके प्रतिभागियों के बीच कोई दीवार नहीं थी। हालांकि, वे सभी शकीरा की ओर आकर्षित थे, लेकिन शकीरा ने जल्दी ही उन्हें दोस्त बना लिया और एक जुड़ाव पैदा किया। उसे प्रतिभागियों को प्रशिक्षित करते देखना शानदार अनुभव होता है और वह बेहद अद्भुत तरीके से प्रतिभाशाली है, शानदार है।

M_Id_403911_shaan

हम अक्सर ऐसा क्यों देखते हैं कि प्रतिभागियों को शास्त्रीय संगीत में या लोक संगीत में उनकी महारत पर जज नहीं किया जाता है, बल्कि उनका फैसला लोकप्रिय गानों पर उनके परफाॅर्मेंस के आधार पर होता है?

लोकप्रिय गानों में आपको शास्त्रीय संगीत मिलेगा, लोक-संगीत मिलेगा, आप देखेंगे कि इन शैलियों को संगीतकारों ने बेहद चालाकी से शामिल किया है। एक एन्टरटेनमेंट जीईसी चैनल होने के नाते, आप कुछ ऐसा नहीं कर सकते, जोकि कभी सुना नहीं गया हो या बिलकुल अलग हो। आप उसी गाने में थोड़ा ट्विस्ट लाकर, नया बनाकर ताजगी ला सकते हैं और हम यही करने की कोशिश कर रहे हैं। आपको यह महसूस नहीं होता कि वही गाना दोबारा गाया गया है और आप उन गानों का चुनाव नहीं करते हैं, जो समाप्त हो चुके हैं। इसके साथ ही मैं कोई ऐसा गाना नहीं गाऊंगा, जिससे कि मेरे दर्शक मेरी ओर ध्यान ही नहीं दें। मैं सिर्फ प्रतिभा के लिये भी शो में काम नहीं करूंगा। इतने सालों में आपको महसूस होता है कि कुछ ऐसी चीजें हैं, जिन्हें अपनाने की जरूरत है। आपको उससे जुड़कर रहना होता है और आप इसमें कितनी ताजगी ला सकते हैं और आप इसके साथ कितना खेल सकते हैं। यह सब दर्शकों की पसंद पर निर्भर करता है। इसलिये यह बेहद गतिशील है, चीजें बदलती रहती हैं, आपको पता नहीं चलेगा कल कोई क्लासिकल शो बेहद हिट हो सकता है।

shaan200

एक कोच के रूप में, आप प्रतिभागियों की प्रतिभा को निखारने के लिये उन्हें किस प्रकार की चुनौतियां देंगे?

मैं निश्चित रूप से उन पर दबाव डालना नहीं चाहूंगा और मैं नहीं चाहता कि वे अपनी आवाज को थका दें। इसलिये यह बेहद सख्त नहीं होने वाला है। इसके साथ ही मैं उन्हें भागीदार बनाये रखना चाहता हूं और नहीं चाहता की उनका फोकस हटे। मैं चाहता हूं कि टीम में मिल-जुलकी सीखने की ललक होे।

आप किस प्रकार के मेंटर होंगे?

मैं बेहद सुलभ और जुड़ा हुआ मेंटर बनना चाहता हूं, ताकि प्रतिभागियों को ऐसा नहीं लगे कि वे मुझसे जुड़ नहीं सकते हैं। ईमानदारी से कहूं, तो व्यक्ति को खुद के अंदर एक स्टूडेंट को जीवंत बनाने की जरूरत होती है, तभी आप उस व्यक्ति को सही तरीके से मेंटर और गाइड करने में सक्षम हो पायेंगे, क्योंकि आप खुद भी इस प्रक्रिया में बहुत कुछ सीख रहे होते हैं।

6BC_shaan_voice_of_india

एक आकांक्षी प्रतिभा को पूरी तरह से उसकी आवाज पर जज करना…. क्या यह प्रतिबंधात्मक है या ऐसा होना ही चाहिये?

मैं काफी समय से प्रतिभाओं को जज कर रहा हूं और मैं काॅन्टैक्ट लेंस का इस्तेमाल नहीं करता या चश्मा नहीं पहनता हूं, इसलिये अक्सर मैं आंखें बंद करके ही जज करता हूं। (हंसते हैं)। मैं प्रतिभागियों की आवाज पर फैसला करता हूं। मुझे लगता है कि यह सही भी है, क्योंकि आप शरीर के हाव-भाव द्वारा, व्यक्ति द्वारा दिखाये जा रहे आत्मविश्वास के द्वारा प्रभावित हो सकते हैं, जोकि उसकी आवाज में नजर नहीं आ सकता है। आप यह जानकर भी प्रभावित हो सकते हैं कि वह प्रतिभागी उस शैली में गाने में सहज नहीं हो सकता है और इसके बावजूद उसने प्रयास किया है और गाना पूरा किया है। जब आप सिर्फ आवाज सुनते हैं, तो फैसला अधिक वस्तुनिष्ठ हो जाता है।

क्या आप जल्दी ही एक म्यूजिक एकेडमी खोलेंगे?
नहीं, फिलहाल नहीं।

shaan-hd-wallpapers

आप कई रियलिटी शोज का हिस्सा रहे हैं, क्या इसकी कोई खास वजह है?

इसकी सिर्फ एक ही वजह है कि मुझे इसमें मजा आता है, क्योंकि मुझे लोगों के साथ बातचीत करना अच्छा लगता है। टेलीविजन का हिस्सा बनना काफी मजेदार होता है। इससे पहले, मैं जब होस्ट था, तो मुझे इस उद्योग के कई उस्तादों और दिग्गज हस्तियों से मिलने का मौका मिला। आपको बहुत कुछ सीखने का मौका मिलता है और आपको कई घंटों तक कुछ अनुशासन बनाकर रखना पड़ता है। आखिर में टेलीविजन पर नजर आने से भी कलाकार को मदद मिलती है। लेकिन अंत में मुझे लगता है कि मैं जो हूं, वही हूं, फिर चाहे टेलीविजन हो या कोई लाइव शो या एक व्यक्ति के रूप में भी यह बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि यहां पर कल्पना करने का कोई दबाव नहीं होता है। मुझे स्वयं में रहना पसंद है, और किस्मत से खुद होना मेरे लिये कारगर रहा है। इसलिये मैं इसके साथ जुड़ा रहूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here